hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

'मैप'
एलिज़ाबेथ बिशप

अनुवाद - पूजा तिवारी


'मैप' कविता का हिंदी अनुवाद :

मानचित्र

जल के भीतर की ज़मीन पर
हर तरफ हरियाली छाई हुई है।
यह हरियाली की छाया है या फिर ज़मीन का छिछलापन
इसके लंबे किनारे समुद्र की समाप्ति के प्रमाण की तरह विस्तृत हैं
जहाँ हरे रंग की घास-फूस सरलता से नीले रंग में ढल गई है।
या फिर जमीन समुद्र को ऊपर उठाने के लिए
नीचे झुक कर स्थिर हो गई है?
झुलसी हुई बालू के साथ मिलकर, क्या धरती पानी के भीतर से
समुद्र को अपनी ओर खीचने का प्रयास कर रही है?
न्यू फाउंडलैंड की छाया स्थिर और शांत है।
लेब्राडोर इस तरह से पीला हो उठा है
जैसे एस्किमों लोगों ने इसमें
तेल उड़ेल दिया हो
हम इन सुंदर झाड़ियों को किसी पारदर्शी खांचे में
कुछ इस तरह से प्रदर्शित कर सकते हैं
जिससे यह प्रतीत हो कि ये खिलने वाली हैं
या फिर यह पारदर्शी खांचा
इन मचलती मछलियों के लिए एक पिंजरे की तरह लगे।
किनारों पर स्थित स्थानों और नगरों के नाम समुंदरों के नाम पर ही रख दिए गए हैं
शहरों के नाम भी पड़ोसी पहाड़ी चोटियों के नाम पर ही हैं
जिस प्रकार भावनाएं किन्हीं कारणों से उतावली होने लगतीं हैं
उसी तरह प्रिंटर भी इन तस्वीरों को देख उत्तेजक हो उठा है।
इन प्रायद्वीपों के बीच सिमटे जल को देखकर ऐसा लगता है
जैसे कोई स्त्री अंगूठे और हथेलियों में जल को उठाकर
यार्ड गुड्स के जल की कोमलता को महसूस कर रही हो।
अपने अस्तित्व के प्रमाण के रूप में धरती को अपनी तरंगे उधार देता हुआ
मानचित्र पर अंकित जल
आस-पास की भूमि से अधिक शांत दिख रहा है:
और नार्वे के खरगोश व्याकुल होकर दक्षिण की तरफ दौड़ रहे हैं
बड़े लोग मानचित्र में समुद्र और भूमि की सीमा तय कर देते हैं
क्या वे उनका रंग निर्धारित करते हैं?
या
देशों ने अपना रंग स्वयं उनके स्वरूप और आवश्यकता के अनुरूप चुना है?
साफ़ दिखता है, मानचित्र पर उत्तर उतना ही समीप है जितना कि पश्चिम
स्थलाकृति किसी एक को विशिष्ट नहीं घोषित करती
मानचित्र निर्माताओं के द्वारा प्रस्तुत रंगीन विवरण
इतिहासकारों के द्वारा किये गए वर्णन से अधिक उत्कृष्ट हैं।


End Text   End Text    End Text