hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

'लेट अस टच ईच अदर' का हिंदी अनुवाद - अबाध प्रेम
वेरा पावलोव

अनुवाद - पूजा तिवारी


'लेट अस टच ईच अदर' का हिंदी अनुवाद -

अबाध प्रेम
चलो हम एक-दूसरे को महसूस करें
क्योंकि हमारे पास एक-दूसरे को स्पर्श करने के लिए हैं-
हाथ, हथेलियाँ, कलाई, कुहनियाँ...
चलो एक दूसरे पर प्यार बरसाते हैं
दुःख, यंत्रणा, कष्ट,
कुरूपता, पंगुपन से आगे निकलकर
कुछ अच्छा याद रखने के लिए,
ऐसा साथ निभाते हैं, जिससे दुःख को कम किया जा सकता हो।


End Text   End Text    End Text