hindisamay head
डाउनलोड मुद्रण

अ+ अ-

कविता

अकाट्य सिर
ज्ञानेंद्रपति


मेरे कटे हुए सिर का
यदि बनता पेपरवेट
नयनाभिराम
तो वे बहुत खुश होते
रखते मुझे सदा अपनी आँखों के सामने ही
कुलीन शालीन
प्रतिभा के, सौंदर्य के, गरज हर अच्छी चीज के
पारखी वे

लेकिन
यह मेरा सिर
बेहूदा है
किसी जंगली पक्षी के घोंसले जैसा
लेकिन चलो!
उसका एक मुखोश ही बन जाएगा
अफ्रीका और बस्तर के आदिवासी मुखोशों के बीच
दीवार खाली है
उनके ड्राइंगरूम की

मुश्किल यह है
कि यह सिर है या खुराफात !
कभी बंद न होने वाला एक कारखाना
कविताओं की आधी-अधूरी फैलती-सिकुड़ती
पंक्तियों से भरा हुआ
अपांक्तेय अनुभवों की पंक्तिशेष स्मृतियों से
जिज्ञासाओं से अभीप्साओं से विकल
कवि-माथ !
चाक पर घूमती
अत्यंत हल्के हाथों सूत से कट जानेवाली
गरदन नहीं है यह
गीली मिट्टी नहीं, पकी हुई ईंट है
अकाट्य है त्याज्य है
फेंको इसे दूर घूरे पर
चुपचाप
सिवान पर बढ़ाओ चौकसी
बस्ती में गश्त रात-दिन
हर दिशा में हमेशा ताने हुए बंदूकें
उपद्रवियों के खिलाफ!

 


End Text   End Text    End Text

हिंदी समय में ज्ञानेंद्रपति की रचनाएँ